चींटियां बिना फेफड़ों के कैसे सांस लेती हैं?

1.

चींटियां बिना फेफड़ों के कैसे सांस लेती हैं?

2.

चींटियों के शरीर की बनावट और अंग बड़े अनोखे होते हैं। वे बिना कान के सुन सकती हैं, बिना फेफड़ों के सांस ले सकती हैं।

3.

चींटियों के शरीर में फेफड़ों के लिए जगह नहीं मिली तो प्रकृति ने उनके लिए कमाल का सिस्टम बनाया, ताकि वे सांस ले सकें।

4.

चींटियों के शरीर के किनारों पर बारीक छेद होते हैं, जिनके जरिए उनकी हर कोशिका तक ऑक्सीजन पहुंचती है।

5.

चींटियों के कान भी नहीं होते। लेकिन, वे जमीन में होने वाले कंपन के जरिए सुनती हैं। खाना तलाशते वक्त वे कंपन को सिग्नल के तौर पर यूज करती हैं।

6.

चींटियों के 2 पेट होते हैं। एक पेट उनके खुद के लिए होता है, दूसरे पेट में वह दूसरी चींटियों के लिए खाना रखती हैं।

7.

इससे वे खाना तलाशते हुए दूर तक जा सकती हैं और घर में काम कर रहीं चींटियों के लिए खाना ला सकती हैं।

8.

ब्रिटेन में उड़ने वाली चींटियां भी पाई जाती हैं, जिन्हें अलेट्स कहते हैं। इन चींटियों के पंख होते हैं।

9.

भारत में पाई जाने वाली चींटियों के पंख तब निकलते हैं, जब वे परिपक्व होकर रानी बनती हैं।

10.

रानी चींटियों के पंख 15 एमएम तक लंबे हो सकते हैं और ये श्रमिक चींटियों की तुलना में काफी बड़ी होती हैं।