जानें 144 साल में कैसे बदल गए बल्ब?

1.

जानें 144 सालमें कैसे बदलगए लाइट बल्ब

2.

मार्केट में अब ऐसे हाईटेक LED बल्ब मिलने लगे हैं, जिनके फीचर्स बहुत कमाल के हैं। इनमें से कई बल्ब तो मोबाइल से ऑन-ऑफ किए जा सकते हैं।

3.

थॉमस अल्वा एडीसन ने 144 साल पहले यानी 27 जनवरी 1880 को फिलामेंट बल्ब का आविष्कार किया था।

4.

फिलामेंट के बिजली बल्ब से शुरू हुआ सफर आज स्मार्ट बल्ब वायरलेस बल्ब तक पहुंच चुका है।

5.

जानिए कैसे बदली बल्ब की तस्वीर और आज कितने तरह के बल्ब का इस्तेमाल किया जाता है।

6.

सबसे पहले नॉर्मल लाइट बल्ब का इस्तेमाल होता था, जिसे कार्बन या टंगस्टन फिलामेंट के इस्तेमाल से बनाया जाता था।

7.

ये सस्ते होते हैं और आसानी से मिल जाते हैं, लेकिन इनकी ड्यूरेबिलिटी कम होती है। यही कारण था कि हाई एफिशिएंसी लाइट बल्ब यानी एलईडी बल्ब मार्केट में आया।

8.

पारंपरिक लाइट बल्बों की तुलना में ये अधिक समय तक चलता है और बहुत कम बिजली खाता है।

9.

इसके अलावा घरों में सॉफ्ट लाइट बल्ब भी बहुत इस्तेमाल किया जाता है। कम रौशनी की जरूरत हो तो ये सबसे बेहतर ऑप्शन है।

10.

अब मार्केट में सबसे ज्यादा स्मार्ट बल्ब और वायरलेस-कनेक्टेड बल्ब की डिमांड है, जिन्हें ऐप या वॉयस कमांड का इस्तेमाल करके कंट्रोल किया जा सकता है।