राशिद ने कैसे लिया तिहाड़ का बदला वोट से?

1.

राशिद ने कैसे लिया तिहाड़ का बदला वोट से?

2.

टेरर फंडिंग के आरोप में 5 साल से तिहाड़ जेल में कैद कश्मीर के शेख अब्दुल राशिद बारामूला सीट से सांसद चुने गए हैं।

3.

पेशे से इंजीनियर रह चुके राशिद ने जम्मू-कश्मीर के पूर्व CM उमर अब्दुल्ला और पीपुल्स कॉन्फ्रेंस के अध्यक्ष सज्जाद लोन को हराया है।

4.

सिर्फ 27 हजार रुपए में चुनाव प्रचार कर राशिद ने करीब 2 लाख वोटों से जीत हासिल की। उन्हें 4.72 लाख वोट मिले।

5.

श्रीनगर से करीब 85 किमी दूर कुपवाड़ा के मावर गांव में रहने वाले राशिद के पिता मोहम्मद शेख सरकारी टीचर थे।

6.

राशिद ने पढ़ाई का खर्च निकालने के लिए मजदूरी की, ट्यूशन पढ़ाया और इंजीनियर बनकर कुछ समय तक नौकरी भी की।

7.

2008 में राशिद ने चुनाव लड़ने के लिए सरकारी नौकरी छोड़ दी। इससे नाराज उनके अब्बू ने उन्हें घर से निकाल दिया।

8.

राशिद के ससुर ने भी कहा कि चुनाव लड़ना है, तो मेरी बेटी को तलाक देना होगा। इलेक्शन जीतने के बाद ही वह घर लौट सके।

9.

2014 में राशिद ने अपनी पार्टी बनाई और चुनाव जीते। तिहाड़ भेजे जाने के बाद 2024 में उन्होंने कोर्ट से चुनाव लड़ने की परमिशन ली।

10.

इंजीनियर राशिद नहीं चाहते थे कि उनके दोनों बेटे चुनाव प्रचार करें, लेकिन उनकी पार्टी ने उनके बेटों अबरार और असरार से प्रचार कराया।