वर्चुअल गैंगरेप क्या होता है?

1.

वर्चुअल गैंगरेपक्या होता है?

2.

हाल ही में ब्रिटेन में एक नाबालिग लड़कीके वर्चुअल रेप का मामला सामने आया।आखिर वर्चुअल रेप क्या होता है, पीड़ितापर उसका कैसा असर पड़ता है, आइएजानते हैं।

3.

वर्चुअल रेप का पहला मामला1993 में LambdaMOO नाम के साइबरस्पेस में आया। इसमें मिस्टर बंगल नामका कैरेक्टर सेक्शुअल एक्ट करवाता था।

4.

वर्चुअल रेप में पीड़िता को शारीरिक तौर परतो कोई चोट नहीं पहुंचती, लेकिन उसेउसी मानसिक पीड़ा से गुजरना पड़ता है,जैसे कोई रेप पीड़िता गुजरती है।

5.

रेप में फिजिकल असॉल्ट होता है यानीअपराधी पीड़िता को टच करता है, सेक्शुअलअब्यूज करता है, जबरन संबंध बनाता है।

6.

जबकि वर्चुअल रेप में साइकोलॉजिकलचीजें काम करती हैं। जैसे मैसेज या ईमेलभेजना, वायरस, हैक करना, स्पैम भेज,धमकाना।

7.

रेप पीड़िता सामाजिक कार्यक्रमों से दूरहो जाती है वैसे ही वर्चुअल रेप पीड़िताअलग-थलग पड़ जाती है। साथ हीगहरे अवसाद में डूब जाती है।

8.

वर्चुअल वर्ल्ड में ऐसे कैरेक्टर को ‘अवतार’कहते हैं। जिस चेहरे के साथ इंटरनेटयूजर एंट्री लेता है यही चेहरा‘अवतार’ है।

9.

यह अवतार यूजर के शरीर की तरह कामकरता है। यानी उसके हाव-भाव, पर्सनैलिटी,उसी तरह हू-ब-हू काम करेगा।

10.

VR हैंडसेट पहनने के बाद यूजर अवतार केजरिए मेटावर्स की दुनिया में पहुंचकर उसेमहसूस कर सकता है।