साइकिल की दुकान से शुरू हुई किर्लोस्कर

1.

साइकिल की दुकान से शुरू हुई किर्लोस्कर

2.

साल 2018, जुलाई का महीना। 12 बच्चे अपने फुटबॉल कोच के साथ थाईलैंड के चिनांग राय प्रोविंस में घूमने गए। घूमते-घूमते बच्चे एक गुफा में घुसे।

3.

बच्चे जब तक कुछ समझ पाते गुफा में घुटनों से ऊपर तक बारिश का पानी भर गया।

4.

दुनिया के कई देशों ने बच्चों को बाहर निकालने के लिए रेस्क्यू टीम भेजी। भारत सरकार की तरफ से जो रेस्क्यू टीम भेजी गई, उसके तार भारत की एक कंपनी से जुड़े हैं और वो कंपनी है किर्लोस्कर ब्रदर्स ग्रुप।

5.

आज यही किर्लोस्कर ब्रदर्स लिमिटेड देश में सबसे ज्यादा पंप एक्सपोर्ट करने वाली कंपनी है। एशिया के पंपिंग प्रोजेक्ट्स का सबसे बड़ी कॉन्ट्रैक्टर भी।

6.

बचपन से महाराष्ट्र में जन्में लक्ष्मणराव काशीनाथ किर्लोस्कर का मन मैकेनिकल कामों में लगता था।

7.

पेंटिंग का भी शौक था, लेकिन इसमें दिक्कत यह थी कि वो कलर ब्लाइंड थे, इसलिए उन्होंने पेंटिंग छोड़ दी, लेकिन मैकेनिकल ड्रॉइंग की पढ़ाई करते रहे।

8.

पढ़ाई पूरी करने के बाद वे विक्टोरिया जुबली टेक्निकल इंस्टीट्यूट में 45 रुपए के वेतन पर पढ़ाने लगे, लेकिन घर के खर्चों के लिए यह काफी नहीं था।

9.

बेलगांव में एक साइकिल की दुकान खोली। जिस रोड पर यह दुकान थी, आज उसे किर्लोस्कर रोड के नाम से जानते हैं।

10.

सबसे पहले किर्लोस्कर ब्रदर्स ने अपना पहला प्रोडक्ट एक चारा काटने वाला कटर बनाया। ये जल्दी ही फेमस हो गया।